Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

तरक्की की नई इबारत लिखने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कीं मैराथन बैठकें

2

राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति सहित मिले कई केन्द्रीय मंत्रियों से, मध्यप्रदेश होगा लाभांवित

CM Madhya Pradesh शिवराज सिंह चौहान ने अपने दो दिवसीय नई दिल्ली प्रवास के दौरान केन्द्रीय मंत्रियों के साथ मैराथन मीटिंग्स करते हुए मध्यप्रदेश में सर्वोच्च प्राथमिकता देकर किये गये कोविड-19 के नियंत्रण, गेहूँ उपार्जन, सौर परियोजना के क्रियान्वयन, प्रदेश के बासमती चावल को जीआई टैग दिलवाने, किसानों से पिछले वर्ष उपार्जित गेहूँ को केन्द्रीय पूल मे लेने, प्रदेश में तेल और प्राकृतिक गैस की अन्वेषण अनुमति के लिये 5 परमिट जारी करने के अनुरोध, प्रदेश के लिये अतिरिक्त यूरिया की माँग और राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति से सौजन्य भेंट कर प्रदेश की प्रगति के प्रयासों से अवगत करवाया। श्वव्यापी कोरोना संकट के कारण मुख्यमंत्री श्री चौहान की राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति से सौजन्य भेंट नहीं हो सकी थी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन्द्रीय मंत्रियों से अलग-अलग भेंटकर मध्यप्रदेश के विभिन्न वर्गों के हित में आवश्यक कदम उठाने का अनुरोध किया।

प्रधानमंत्री मोदी के साथ मुख्यमंत्री चौहान का निरंतर संवाद वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा होता रहा है। अन्य केन्द्रीय मंत्रियों से भी संवाद और सम्पर्क बना रहा। इसी वजह से मध्यप्रदेश के लिये आवश्यक राशि के आवंटन और योजनाओं के माध्यम से हितग्राहियों को लाभांन्वित करने की भावी योजनाओं की प्रक्रिया को बढ़ाया जा सका।

मुख्यमंत्री Shivraj Singh Chouhan ने 5 जुलाई को जहाँ केन्द्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री आर.के. सिंह से मुलाकात कर एशिया के सबसे सौर ऊर्जा पॉवर प्लांट के लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल होने का आग्रह किया, वहीं पूर्व में इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा ऑनलाइन लोकार्पण के लिये प्राप्त स्वीकृति से अवगत कराया। मुख्यमंत्री चौहान ने इसी दिन केन्द्रीय खाद्य मंत्री श्री रामविलास पासवान से भेंटकर गत वर्ष उपार्जित प्रदेश के 6.45 लाख मीट्रिक टन गेहूँ को केन्द्रीय पूल में शामिल करने का पुरजोर आग्रह किया। इसी तरह मुख्यमंत्री चौहान ने केन्द्रीय मंत्री पासवान को मध्यप्रदेश में लौटे 13 लाख प्रवासी श्रमिकों में से एक लाख 90 हजार मजदूरों को राशन कार्ड न होने के कारण राशन से वंचित रहने की समस्या से भी अवगत करवाया।

मुख्यमंत्री चौहान ने 6 जुलाई को केन्द्रीय रसायन और उर्वरक मंत्री श्री डी.वी. सदानंद गौड़ा से मुलाकात कर मध्यप्रदेश के लिये अतिरिक्त यूरिया आवंटन का अनुरोध किया। इस मुलाकात का परिणाम सार्थक रहा। केन्द्रीय मंत्री श्री गौड़ा ने अतिरिक्त यूरिया देने के साथ ही प्रदेश में रैक प्वाइंटस बढ़ाने की मंजूरी भी दे दी। मुख्यमंत्री चौहान ने केन्द्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान से मध्यप्रदेश में ओएनजीएल द्वारा अन्वेषण के लिये अनुमति के आवेदन का स्मरण दिलाते हुए 5 परमिट जारी किये जाने का अनुरोध किया। केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर से भेंट में मुख्यमंत्री चौहान ने मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध बासमती चावल को जीआई टैग दिलवाने का अनुरोध किया। मध्यप्रदेश के करीब 80 हजार किसान चावल की यह लोकप्रिय किस्म उगाते हैं। यह चावल विदेशों तक जाता है। मध्यप्रदेश के बासमती चावल को जीआई टैग मिल जाने से किसानों को भी फायदा मिलेगा।

0
0

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.