Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

फर्जी डिग्री मामला भोपाल के प्रोफेसर समेत 10 लोग गिरफ्तार

125

हैदराबाद पुलिस सिटी कमिश्‍नर ने बताया है कि पुलिस ने इन लोगों से बड़ी संख्‍या में फर्जी सर्टिफिकेट और अन्‍य सामान बरामद किए हैं. दो आरोपियों गुंटी महेशवर राव और अंचा श्रीकांत रेड्डी ने भोपाल की सर्वपल्‍ली राधाकृष्‍णन यूनिवर्सिटी के असिस्‍टेंट प्रोफेसर केतन सिंह के साथ मिलकर सभी शैक्षणिक संस्‍थानों के साथ फर्जी डिग्री बनवाने के लिए लिंक बनाए थे.

हैदराबाद. हैदराबाद पुलिस (Hyderabad Police) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए शहर में चल रहे फर्जी डिग्री सर्टिफिकेट (Fale Degree Certificate) बनाने वाले रैकेट का खुलासा किया है. पुलिस ने इस धंधे में शामिल 10 लोगों को गिरफ्तार किया है. इनमें मध्‍य प्रदेश के भोपाल (Bhopal) स्थित सर्वपल्‍ली राधाकृष्‍णन यूनिवर्सिटी के एक असिस्‍टेंट प्रोफेसर को भी पकड़ा गया है. हैदराबाद पुलिस सिटी कमिश्‍नर सीवी आनंद ने जानकारी दी है कि धंधे में शामिल लोग उन छात्रों को टार्गेट करते थे, जो फेल हो चुके होते थे या जो अपनी पढ़ाई पूरी नहीं करते थे.


हैदराबाद पुलिस सिटी कमिश्‍नर ने बताया है कि पुलिस ने इन लोगों से बड़ी संख्‍या में फर्जी सर्टिफिकेट और अन्‍य सामान बरामद किए हैं. उनके अनुसार सूत्रों से मिली पुष्‍ट सूचना के आधार पर यह कार्रवाई कमिश्‍नर की टास्‍क फोर्स, नॉर्थ जोन टीम ने स्‍थानीय पुलिस के साथ मिलकर की है. पुलिस टीम ने आसिफ नगर पुलिस थाना क्षेत्र के मेहदीपटनम में छापा मारा.

पुलिस के अनुसार ये लोग मेहदीपटनम में प्राइड एजुकेशनल एकेडमी के नाम से कंसल्‍टेंसी फर्म चला रहे थे. छापेमारी में इनके पास से कई फर्जी डिग्री सर्टिफिकेट बरामद किए गए हैं. इन लोगों ने फर्जी डिग्री सर्टिफिकेट के लिए रेट लिस्‍ट भी बना रखी थी. फर्जी बीटेक डिग्री सर्टिफिकेट के लिए ये छात्रों से 3 लाख रुपये वसूलते थे. वहीं बीकॉम और बीए के लिए 1.5 लाख रुपये लिए जाते थे. बीएससी के लिए ये 1.75 लाख रुपये लेते थे. एमबीए के लिए 2.75 लाख रुपये वसूले जाते थे.

पुलिस ने जानकारी दी है कि आरोपी गुंटी महेशवर राव यह फर्जी फर्म चला रहा था. इसका जुड़ाव भोपाल की सर्वपल्‍ली राधाकृष्‍णन यूनिवर्सिटी, सागर की स्‍वामी विवेकानंद यूनिवर्सिटी और यूपी के सहारनपुर की ग्‍लोकल यूनिवर्सिटी से था. आरोपी इन्‍हीं यूनिवर्सिटी से फर्जी डिग्री सर्टिफिकेट बनवाकर छात्रों को देते थे.

बताया गया है कि दो आरोपियों गुंटी महेशवर राव और अंचा श्रीकांत रेड्डी ने भोपाल की सर्वपल्‍ली राधाकृष्‍णन यूनिवर्सिटी के असिस्‍टेंट प्रोफेसर केतन सिंह के साथ मिलकर सभी शैक्षणिक संस्‍थानों के साथ लिंक बनाए थे.

0
0

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.