सागर

3 वर्षीय बालिका की निर्मम हत्या करने वाला आरोपी आया पुलिस की गिरफ्त में

शुक्रवार को सागर डीआईजी ने शाहगढ़ में हुई की एक निर्मम हत्या का किया खुलासा ज्ञात हो की दिनांक 26.7.2020 को थाना शाहगढ अंतर्गत स्थित हनुमान येरा के पटैल परिवार की तीन वर्षीय नाबालिग बालिका की लाश एक खेत में  आधी दबी हुई मिली थी


प्रकरण अत्यंत संवेदनशील एवं जघन्य होने से पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, अनुविभागीय
अधिकारी पुलिस बण्डा, एफ.एस.एल. अधिकारी एवं डॉग स्कॉड मौके पर तत्परता से पहुंचे। घटना के अवलोकन से अज्ञात आरोपी द्वारा नाबालिग बालिका के साथ जघन्य अपराध घटित किया जाना प्रदर्शित हुआ। घटनास्थल का अवलोकन सागर पुलिस महानिरीक्षक एवं उप पुलिस महानिरीक्षक द्वारा उसी दिनांक को किया गया एवं विवेचना टीम बनाकर अज्ञात आरोपी के ऊपर इनाम उद्घोषित करने के निर्देश दिए। इन निर्देशों के पालन में पुलिस अधीक्षक सागर द्वारा अज्ञात आरोपी के संबंध में सूचना देने वाले व्यक्ति को 10,000 हजार रूपये का इनाम घोषित किया गया।

प्रकरण की जघन्यता एवं संवेदनशीलता को दृष्टिगत् रखते हुये पुलिस अधीक्षक सागर द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सागर श्री प्रवीण भूरिया के मार्गदर्शन में एक विशेष विवेचना टीम गठित की गई जिसमें सागर जिले के संवेदनशील तथा विवेचना मे दक्षता रखने वाले उपनिरीक्षक, आरक्षक, एवं महिला पुलिस अधिकारी सम्मिलित किये गये। प्रथम तीन दिवस पुलिस की विवेचना हेतु अत्यंत चुनौतीपूर्ण रहें, क्योंकि उक्त अवधि में शंका एवं विवेचना की दिशा कई संभावना को प्रदर्शित कर रहें थें । गस्ति विवेचना टीम के सभी सदस्यों को पृथक पृथक उन संभावनाओं के सत्यापन परीक्षण एवं साक्ष्य संकलन हेतु निर्देशित किया गया। घटनास्थल के अवलोकन तथा क्षेत्रीय जन के सहयोग से संकलित सूचना के माध्यम से यह जानकारी प्राप्त हुई कि घटना दिनांक को बालिका को मुहल्ले के एक नवयुवक के आस-पास देखी गई थी, जो घटना दिनांक के एक दिन बाद अस्वाभाविक कारणों से अपने घर पर नहीं था। उक्त सूचना के आधार पर संदेही राजाराम पिता हल्के पटैल आयु 22वर्ष की तलाश कर पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया, जिसने प्रारंभिक पूछतांछ में इंकार करने के उपरांत घटना करना स्वीकार किया। आरोपी बच्ची के घर के पास ही रहता था और शराब पीने का आदी था साथ ही मोबाइल पर अश्लील फिल्में भी देखा करता था उस शाम को भी शराब के नशे में आरोपी ने इस जघन्य अपराध को अंजाम दिया उपरोक्त आरोपी को जांच टीम ने घटनास्थल पर ले जाकर घटना का रीक्रिएशन कराया व अपराध के जुड़े अन्य भौतिक साक्ष्यों की आरोपी से जप्ती कराई गई। आरोपी द्वारा घटना में संलिप्त होने के स्पष्ट साक्ष्य प्राप्त होने व घटना का स्वरूप स्पष्ट होने के उपरांत दिनांक 30.7.2020 को आरोपी को गिरफ्तार किया गया।

उपरोक्त जघन्य एवं संवेदनशील अपराध की विवेचना में थाना प्रभारी निरीक्षक राविन्द्र सिंह, उपनिरीक्षक
अरविन्द्र सिंह, उपनिरीक्षक रोहित मिश्रा, उपनिरीक्षक दिव्यप्रकाश त्रिपाठी, उपनिरीक्षक युवराज सिंह परिहार, उपनिरीक्षक कविता द्विवेदी, उपनिरीक्षक सी.एल. अहिरवार, उपनिरीक्षक मृत्युंजय गुप्ता, महिला थाना प्रभारी निरीक्षक संगीता सिंह, सहायक उप निरीक्षक के.पी. भट्ट, प्र.आर. हरिनारायण, आरक्षक सुन्दर सिंह यादव, आरक्षक शिवराज सिंह कुशवाहा, आर0। दिलीप गुर्जर, आर महीपत, आर0 लक्ष्मीनारायण यादव, आरक्षक सौरभ रैकवार,आरक्षक अमित शुक्ला का विशेष योगदान रहा।उपरोक्त घटना के संबंध में सर्वाधिक महत्वपूर्ण एवं उल्लेखनीय सूत्र पुलिस डॉग जेसी द्वारा प्रदाय किया गया। जिसके द्वारा घटना की ट्रेकिंग में संदेही के निवास स्थान तक पहुंचकर विवेचना को स्पष्ट दिशा देने का कार्य किया गया। इस हेतु उसे पृथक से पुरुस्कृत किया जा रहा है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: