Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

खुरई रेंजर की कार्यप्रणाली से वन अमला परेशान

79

रेंजर के विरोध में समस्त स्टाफ ने डीएफओ को सौंपा ज्ञापन

ट्रांसफर होने के बाद भी कोर्ट स्टे पर डटे हुए हैं खुरई रेंजर

लक्ष्मी के मोह में कोरोना काल को और अपनी बीमारियों को भुला चुके हैं खुरई रेंजर

सागर-: वर्तमान में पूरा देश कोरोना संक्रमण से जूझ रहा है ऐसे में शासन भी पहले ही स्पष्ट आदेश कर चुका है कि कार्यालय आवश्यक कार्य हेतु ही खुले जाए, और हफ्ते में 2 दिन शनिवार और रविवार पूर्णता बंद रहेंगे
लेकिन खुरई रेंज में पदस्थ रेंजर साहब शुक्ला जी को शासन के आदेशों की ना तो फिक्र है ना कोरोना का डर है उन्हें तो बस अपने मलाई वाले कार्यों की चिंता है और शायद इसी की लीपापोती के लिए कंप्यूटर ऑपरेटर को दिन-रात परेशान करते हैं और कार्यालय में बेठाकर काम करवाते हैं, वनपाल, वनरक्षक को फोन लगा लगा कर मानसिक रूप से प्रताड़ित करते रहते हैं, जबकि सागर जिले में दर्जनो लोगो को वन बिभाग भी कोरोना के कारण खो चुका है

रेंजर साहब कभी फील्ड पर जाते नहीं है बस घर बैठे बैठे फोन से ही अपनी पूरी रेंज चलाते हैं, वैसे रेंजर खुद भी कई कई बीमारियों से ग्रसित हैं और चलने फिरने में लगभग असमर्थ हैं किडनी खराब और शुगर जैसी बीमारियां है लेकिन लक्ष्मी के मोह के आगे किसे कहां क्या दिखता है

पिछले दिनों बीना परियोजना में भी जमकर लीपापोती की और जब यह बात उच्च स्तर तक भ्रष्टाचार की पहुंची तो उन्होंने अपने ऊपर से पूरा पल्ला झाड़ते हुए बनपाल और वनरक्षक के ऊपर पूरा आरोप जड़ दिया और उन्हें सस्पेंड भी करा दिया था, जबकि रेंज में रेंजर की बिना पत्ता तक नहीं हिलता, यहां इनकी कार्यशैली से बुंदेलखंडी कहावत सही सिद्ध होती है कि खीर मे सोन्ज और महेरी में न्यारे
वन मंडल अधिकारी उत्तर सागर ने इन्हें 3 दिन के अंदर हटाने की बात कही है

0
0

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.