Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

भारतीय हॉकी टीम ने दोहराया इतिहास, 49 साल बाद ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुंची

36

आठ बार की ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) के सेमीफाइनल में जगह बना ली. मनप्रीत सिंह की कप्तानी वाली टीम (Indian Men’s Hockey Team) ने रविवार को क्वार्टर फाइनल में ब्रिटेन को 3-1 से मात दी. यह 49 साल बाद है जब पुरुष हॉकी में भारत ने ओलंपिक खेलों के सेमीफाइनल में जगह बनाई है. इस मुकाबले में भारत के लिए दिलप्रीत सिंह, गुरजंत सिंह और हार्दिक सिंह ने 1-1 गोल किया जबकि ब्रिटेन का एकमात्र गोल वार्ड ने तीसरे क्वार्टर की समाप्ति से कुछ क्षण पहले पेनल्टी कॉर्नर पर किया.

भारत ने ओलंपिक में आखिरी पदक मॉस्को ओलंपिक 1980 में स्वर्ण पदक के रूप में जीता था लेकिन तब केवल छह टीमों ने भाग लिया था और राउंड रोबिन आधार पर शीर्ष पर रहने वाली दो टीमों के बीच स्वर्ण पदक का मुकाबला हुआ था. इस तरह से भारत 1972 में म्यूनिख ओलंपिक के बाद पहली बार सेमीफाइनल में पहुंचा है. ओलंपिक में भारत और ब्रिटेन का सामना 9वीं बार हुआ और भारत ने अब जीत-हार का अपना रिकॉर्ड 5-4 कर लिया है.

क्वार्टर फाइनल मुकाबले में भारतीय टीम ने दमदार प्रदर्शन किया. पहले क्वार्टर में ही दिलप्रीत सिंह के गोल से उसने बढ़त बना ली. इसके बाद दूसरे क्वार्टर में गुरजंत सिंह के गोल से बढ़त को दोगुना कर दिया. हाफ टाइम तक स्कोर भारत के पक्ष में 2-0 रहा. तीसरा क्वार्टर खत्म होने से करीब एक मिनट पहले ब्रिटेन को पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन वह इसे गोल में तब्दील नहीं कर पाया. इस क्वार्टर की समाप्ति से कुछ क्षण पहले ब्रिटेन को एक और पेनल्टी कॉर्नर मिला जिस पर गोल कर उसने स्कोर 1-2 कर दिया.

चौथे क्वार्टर की समाप्ति से करीब 6 मिनट पहले भारत को पेनल्टी कॉर्नर मिला और कप्तान मनप्रीत सिंह को येलो कार्ड दिखाया गया. इसी बीच मिडफील्डर हार्दिक सिंह (Hardik Singh) ने गजब की तेजी दिखाते हुए शानदार मैदानी गोल दागा और स्कोर 3-1 कर दिया. इसी स्कोर के साथ भारत ने जीत दर्ज की. भारत का तीन अगस्त को होने वाले सेमीफाइनल मैच में सामना बेल्जियम से होगा. बेल्जियम ने क्वार्टर फाइनल में स्पेन को 3-1 से हराया है. दूसरे सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया और जर्मनी की भिड़ंत होगी.

0
0

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.