Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

पूर्व मुख्यमंत्री को जेल में विचाराधीन बंदी से मिलवाने के मामले में जेल अधिकारी निलंबित

70

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और उनके साथियों को ग्वालियर केंद्रीय जेल में एक विचाराधीन बंदी शिवराज सिंह से मिलवाने की घटना के वीडियो वायरल होने के बाद आज जेल प्रशासन ने ग्वालियर केंद्रीय जेल के अधीक्षक (चालू प्रभार) मनोज कुमार साहू को निलंबित कर दिया। इस संबंध में जेल प्रशासन की ओर से आदेश जारी कर दिया गया। आदेश के अनुसार मनोज कुमार साहू, अधीक्षक (चालू प्रभार) को कर्तव्य के प्रति गंभीर लापरवाही एवं उदासीनता के गंभीर कदाचरण के तारतम्य में मध्यप्रदेश सिविल सेवा (वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील) नियम के प्रावधानों के चलते तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है।

साहू का मुख्यालय निलंबन काल में जेल मुख्यालय भोपाल रहेगा। ग्वालियर केंद्रीय जेल में शिवराज सिंह नाम का बंदी कैद में है। ग्वालियर में हाल ही में एक प्रदर्शन के दौरान एक पुलिस कर्मचारी के झुलसने की घटना के संबंध में पुलिस ने आपराधिक प्रकरण दर्ज किया था। इसी सिलसिले में शिवराज सिंह को आरोपी बनाया गया था और गिरफ्तारी के बाद वह केंद्रीय जेल में है।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और अन्य पार्टी नेताओं का शिवराज सिंह से ग्वालियर केंद्रीय जेल के एक कक्ष में मुलाकात का वीडियो वायरल हुआ है। बताया गया है कि यह मुलाकात जेल परिसर स्थित एक अधिकारी के कक्ष में कल हुयी। इस घटना का वीडियो वायरल होते ही जेल प्रशासन तत्काल हरकत में आया और संबंधित अधीक्षक मनोज कुमार साहू को निलंबित कर दिया गया।

इसके पहले आज यहां गृह एवं जेल मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने यहां मीडिया से चर्चा के बाद ट्वीट में कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके दिग्विजय सिंह का जेल के अंदर की तस्वीर वायरल करना बताता है कि कानूनी नियम प्रक्रियाओं के प्रति उनकी क्या धारणा है। इस मामले में प्रथम दृष्टया जेल अधीक्षक दोषी हैं, इसलिए उन्हें निलंबित करने का निर्णय लिया गया है।

0
0

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.