Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

आगरा से अगवा वरिष्ठ चिकित्सक को पुलिस ने कराया मुक्त

14

आगरा पुलिस और धौलपुर पुलिस संयुक्त् पुलिस टीम ने 72 घंटे चले ऑपरेशन के बाद अगवा हुए वरिष्ठ चिकित्सक विद्या नर्सिंग होम के संचालक को सकुशल बरामद कर लिया। वहीं फिरौती के नियत से अगवा करने वाले बदमाशों में दो को गिरफ्तार कर लिया जबकि अन्य बदमाश अंधेरे का फायदा उठाकर भाग निकले।

पुलिस जानकारी जुटा रही है ताकि जल्द से जल्द गिरोह का खुलासा हो सके। आगरा से अगवा हुए वरिष्ठ चिकित्सक विद्या नर्सिंग होम के संचालक को पुलिस ने 72 घंटे चले ऑपरेशन के बाद सकुशल बरामद कर लिया है। पुलिस ने अपहरण में शामिल दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। बदमाश डॉ उमाकांत गुप्ता के परिवार से मोटी फिरौती वसूलने के प्रयास में थे। लेकिन आगरा पुलिस की सक्रियता ने बदमाशों के मंसूबों पर पानी फेर दिया।

डॉ गुप्ता की बरामदगी के लिए आगरा पुलिस ने लगातार कवायद की कोडिंग की और आखिरकार उन्हें बदमाशों के चुंगल से मुक्त करा लिया गया है। पुलिस टीम डॉ उमाकांत गुप्ता से बातचीत कर अपहरणकर्ताओं से जुड़ी जानकारियां जुटा रही है। हॉस्पिटल संचालक डॉ उमा कांत गुप्ता को किडनैप करने के बाद बदमाश उनसे मोटी फिरौती वसूलना चाहते थे। बदमाशों को यकीन था कि डॉक्टर गुप्ता के अपहरण के बाद तो मालामाल हो जाएंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने के बाद पहले डॉक्टर गुप्ता की कार बरामद की। और वारदात में शामिल दो अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया। बदमाशों की निशानदेही पर पुलिस ने गिरोह की घेराबंदी की और डॉक्टर उमाकांत गुप्ता को सकुशल बरामद कर लिया ।

राजस्थान के बॉर्डर पर मिली थी आखिरी लोकेशन 
उमाकांत गुप्ता का मोबाइल भी स्विच ऑफ हो गया था। उनकी अंतिम लोकेशन राजस्थान बार्डर से सटे सैंया थाना क्षेत्र के तेहरा गांव में आई। बुधवार को उनकी कार धौलपुर में लावारिस हालत में मिल गई। इस पर पुलिस की पांच टीमों को लगाया गया। एसपी सिटी के नेतृत्व में एक टीम ने धौलपुर जिले के बीहड़ में डेरा डाल लिया था। पुलिस टीम ने रातभर बीहड़ में कांबिंग की। 

गुरुवार तड़के चिकित्सक को धौलपुर के बीहड़ से मुक्त करा लिया गया। पुलिस पहले उन्हें धौलपुर ले गई। इसके बाद आगरा लाया गया। पुलिस ने एक युवती और युवक को गिरफ्तार किया है। बताया गया है कि वरिष्ठ चिकित्सक का अपहरण बदन सिंह तोमर गैंग ने किया था। पुलिस अब गैंग के सरगना व अन्य बदमाशों की भी तलाश में जुटी है। 

डॉ उमाकांत गुप्ता के अपहरण के बाद उनके परिवार में दहशत का माहौल था। परिवार के सदस्ययों का रो-रो कर बुरा हाल था। अब जब पुलिस ने डॉक्टर गुप्ता को बरामद कर लिया है। पूरे परिवार के लोगों ने राहत की सांस ली है। डॉक्टर गुप्ता का परिवार पुलिस को धन्यवाद दे रहा है, पुलिस का आभार जता रहा है। वहीं जिले में पुलिस तारीफ बटोर रही है।

0
0

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.