Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

सुशांत सिंह केसः बिहार पुलिस को नहीं पता कहां है रिया चक्रवर्ती, डीजीपी बोले- ‘फरार हैं’ 

3

नई दिल्ली- सुशांत सिंह सुसाइड केस अब सीबीआई के हाथों में पहुंच गया है, बुधवार को बिहार सरकार की शिफारिश को स्वीकार करते हुए केंद्र सरकार ने यह मामला अब सीबीआई को सौंप दिया है। उधर, रिया चक्रवर्ती की जांच को पटना से मुंबई शिफ्ट करने की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई, न्यायालय ने सभी पार्टियों को तीन दिन के अंदर इस पर जवाब देने को कहा है। इस बीच रिया चक्रवर्ती कहां है किसी को कुछ नहीं पता है। जह बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे से रिया के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, वह हमारे संपर्क में नहीं हैं। सुशांत सिंह केस की जांच के बीच अब रिया चक्रवर्ती कहां है? यह बड़ा सवाल बन गया है। हाल ही में मीडिया रिपोर्ट में ऐसी खबरें थी कि रिया आधी रात परिवार सहित अपना घर छोड़कर कहीं चली गई हैं। बता दें कि पटना में सुशांत के पिता केके सिंह की एफआईआर के बाद से ही रिया चक्रवर्ती गायब हैं, एक वीडियो में उन्होंने खुद को निर्दोष बताते हुए कहा था कि सत्य की जीत होगी। इस बीच बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने मुंबई पुलिस पर रिया चक्रवर्ती को बचाने का आरोप लगाया है। हमें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि वह मुंबई पुलिस के संपर्क में है। रिया से संपर्क में नहीं हैं और ना ही वह इस मामले में आगे आकर हमसे संपर्क कर रही हैं। बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद उनके पिता केके सिंह ने बिहार के पटना में फिल्म अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती और अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। सुशांत सिंह केस में पटना पुलिस के शामिल होने के बाद से महाराष्ट्र और बिहार में विवाद शुरू हो गया है। मामले की जांच करने मुंबई पहुंचे आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को बीएमसी द्वारा जबरन क्वारंटाइन कर दिया गया। इस मामले पर बिहार डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने बताया, ‘हमने बीएमसी से अनुरोध किया कि IPS अधिकारी विनय तिवारी को क्वारंटाइन से छूट दी जाए। हमने उनसे कहा कि वह कम से कम उसे वापस भेजें क्योंकि वह एक आईपीएस अधिकारी है। यह एक पेशेवर व्यवहार नहीं है। अधिकारी को ऐसे रखा जा रहा है जैसे कि उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।’ वहीं, विनय तिवारी को क्वारंटाइन मामले पर मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर का भी बयान सामने आया है। उन्होंने कहा, ‘WHO और आईसीएमआर की गाइडलाइन और स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रॉसीजर (एसओपी) सबके लिए बराबर है। किसी के साथ कोई जबरदस्ती नहीं की गई है। लोगों को होटल या घर में क्वारंटीन किया जाता है, इसी एसओपी का पालन किया गया है। इसमें कोई जबरदस्ती नहीं है।’  सुशांत सिंह राजपूत के पिता के वकील विकास सिंह ने कोर्ट की सुनवाई के बाद बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने ये साफ बोला है कि मुंबई पुलिस ने जो बिहार पुलिस को क्वारंटीन किया था ये बहुत गलत है। और जब तक सीबीआई औपचारिक अधिसूचना(नोटिफिकेशन) के तहत मामले को अपने हाथ में नहीं लेती है तब तक बिहार पुलिस जांच करेगी। उन्होंने आगे कहा, सुप्रीम कोर्ट ने ये साफ बोला है कि मुंबई पुलिस ने जो बिहार पुलिस को क्वारंटीन किया था ये बहुत गलत है। और जब तक सीबीआई औपचारिक अधिसूचना (नोटिफिकेशन) के तहत मामले को अपने हाथ में नहीं लेती है तब तक बिहार पुलिस जांच करेगी।

0
0

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.