देवरी

फर्जी बिल बनवाने के लिए दी गई धमकियां आरओ वाटर कूलर घोटाला

दोषियो पर होगी सख्त कार्यवाही- जिला सीईओ इच्छित गढपाले

सागर देवरी – मध्यप्रदेश के सागर जिले की देवरी जनपद का एक बडा चर्चित भ्रष्ट्राचार मामला जिसकी चर्चा देवरी क्षेत्र व पूरे जिले मे है और सभी आम जन व अधिकारी ऐसे भ्रष्ट्राचार को देखकर दंग ही रह गये है मीडिया कर्मियों द्वारा लगातार भ्रष्टाचार की जडे निकाली जा रही है साथ ही पूरे मामले को लगातार उजागर किया जा रहा है जिस से पूरे भ्रष्टाचार मै शामिल अधिकारी नेता व कर्मचारी मामले का खुलासे होने से हडकंप मै है मामला इतना गजब है कि लोग सुनके व खबर पढ कर ही दंग रह गये इस भ्रष्टाचार मामले मे आरओ की सही कीमत से कई गुना ज्यादा के बिल बने व राशि निकाली गई करीब आठ दस हजार कीमत के आरओ के बिल पचास हजार व एक लाख पचास हजार तक बने है ऐसे कई स्थानो पर कागजी रिकार्ड मै लगे है जमीनी स्तर पर शून्य है कई स्थानो पर तो गायब है कई स्थानो पर बंद पढे है कही कही तो बिना उपयोग के जबरदस्ती लगवाये गये है ऐसे करीब पचास आर ओ लगे है स्कूलो व पंचायतो के सचिव सरपंच व शिक्षको के फसने पर उनके द्वारा बताया गया है कि उनको मानसिक ब नौकरी खा जाने का दबाब बनाकर ये फर्जी बिल बनवाये है मामले मै हम सब का कोई हाथ नही है जांच सही होगी व जिला स्तर से तो पूरे मामले मै लम्बी चैन फस जायेगी व पूरा मामला का खुलासा होगा अभी जो जनपद द्वारा जांच हुई है उसमे कई स्थानो की फर्जी रिपोर्ट बनाई गई है जबकि सोचने की बात यह है कि जिस जनपद पंचायत की जांच चल रही है वही जांच कर रहे है गजब जांच है दोषी व्यक्ति ही स्वंय की जांच कर रहे है तो कैसे भ्रष्टाचार उजागर होगा इस पूरे मामले की जानकारी जिला पंचायत सीईओ इच्छित गढपाले को लगी तो उनके द्वारा कहा गया कि आप सब निशचित रहे जांच निष्पक्ष होगी व दोषियो को बख्शा नही जायेगी एक एक आरओ का हिसाब किय जायेगा व कार्यवाही मै वसूली के साथ अन्य कानूनी कार्यवाही .भी होगी किसी भी प्रकार से दोषियो को बख्शा नही जायेगा अधिकतर शिक्षक व सचिव सरपंच प्रताड़ना व दबाब नौकरी खाने संबंधी समस्या बता रहे है कि ऐसी धमकी जनपद से मिलती थी कि बिल बनाओ नही तो नौकरी नही कर पाओगे नौकरी से हाथ धो लोगे ऐसी धमकी सुनकर तो एक महिला शिक्षक द्वारा कलेक्टर को लिखित शिकायत भी की गई थी व आरओ लगवाने की मना कर दिया था तो स्कूल की करीब सात दिन टीमो से जांच करायी गई थी मानसिक प्रताडित करके परेशान किया गया था ऐसे ही एक शिक्षक ने बताया कि मैने गलत बिल बनाने मना किया तो मेरे घर पर गुण्डे भेजे जाते थे आये दिन धमकी दी जाती थी नौकरी नही कर पाओगे तो विवश होकर बिल बनाना पडा हम सभी शिक्षक सचिवसरपंच न्याय की गुहार लगा रहे है कि सही जांच हो व जो मुख्य दोषी है उन पर सख्त कार्यवाही की जाये

त्रिवेंद्र जाट देवरी🖋

Related Articles

Back to top button
Close
Close
%d bloggers like this: