Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

कोरोना वायरस के उत्पत्ति की जांच करने चीन रवाना हुई विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम

59
कोरोना वायरस के उत्पत्ति की जांच करने चीन रवाना हुई विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम

डब्लूएचओ चीफ बोले- वायरस के बारे में जितनी अधिक जानकारी होगी, उतनी मजबूती से लड़ सकेंगे

दुनियाभर में 1 करोड़ 24 लाख से ज्यादा लोगों को अपना शिकार बनाने वाले कोरोना वायरस की उत्पत्ति संबंधी जांच के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन की पहली टीम चीन रवाना हो गई है। इस टीम में विश्व स्वास्थ्य संगठन के दो एक्सपर्ट शामिल हैं जो चीन के वैज्ञानिकों के साथ मिलकर जांच की रूपरेखा तय करेंगे। WHO ने अभी तक यह नहीं बताया है कि इस टीम में और कौन-कौन शामिल होगा और इस जांच का मकसद क्या होगा।


विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रवक्ता मारगैरेट हैरिस ने कहा कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति की जांच के लिए पशु-विज्ञान और महामारी विज्ञान के दो विशेषज्ञ चीन रवाना हुए हैं। ये दोनों चीन के वैज्ञानिकों के साथ मिलकर जांच के दायरे को तय करेंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ जंग की समीक्षा के लिए बनाये गए एक स्वतंत्र पैनल में WHO की कोई भूमिका नहीं होगी।

ट्रंप ने WHO और चीन को दुनियाभर में कोरोना से हुई मौतों का जिम्मेदार ठहराया। ट्रंप ने कहा, श्सालाना सिर्फ 40 मिलियन डॉलर (4 करोड़ डॉलर) की मदद देने के बावजूद चीन का WHO पर पूरी तरह नियंत्रण है। दूसरी ओर अमेरिका इसके मुकाबले सालाना 45 करोड़ डॉलर की मदद दे रहा था। चूंकि वे जरूरी सुधार करने में नाकाम रहे हैं, इसलिए आज से हम WHO अपना संबंध खत्म करने जा रहे हैं।

कोरोना वायरस के प्रसार को लेकर दुनिया में बुरी तरह घिरे चीन ने दबाव में आकर भले ही जांच टीम को आने की अनुमति दे दी है। लेकिन, यह देखना बाकी होगा कि क्या चीन में इस जांच टीम को जिनपिंग प्रशासन का पूरा सहयोग मिलता है कि नहीं। विश्व स्वास्थ्य संगठन शुरू से ही कहता रहा है कि चीन उसकी जांच टीम को बुलाए जिससे यह पता चल सकेगा कि इस वायरस का एनिमल सोर्स है या नहीं।

अमेरिका समेत विश्व के कई देश कोरोना वायरस महामारी को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन पर निशाना साधते आए हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तो डब्लूएचओ को चीन का भोपू करार दिया था। इसी कारण अमेरिका ने इस संगठन से अपने सारे संबंध तोड़ लिए थे। डब्लूएचओ ने कोरोना वायरस को लेकर दुनिया को शुरू से ही कम जानकारी दी।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टैड्रोस ऐडरेनॉम गैबरेयेसस ने 2017 में डब्लूएचओ की कमान संभाली थी। कहा जाता है कि उन्हें यह पद चीन के पैरवी करने के कारण मिला था। इसलिए वह चीन परस्त फैसले ले रहे हैं। बता दें कि टैड्रोस पहले अफ्रीकी हैं जो WHO के चीफ बने हैं।

0
0

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.